livedosti.com

दो गर्लफ्रेंड की चुदाई एकसाथ

हीना- अर्नव अब जब हम दोनों ने तुम्हें अपना मान लिया है तो बीच में बैठ जाओ।

मैंने देर ना करते हुए शबनम को मेरी सीट पर बिठा दिया और मैं उसकी जगह पर पहुंच गया।

Mota Lund ki chudai > पड़ोस की सोनिया भाभी की चुदाई

मैंने अपने एक हाथ शबनम के कंधे पर और दूसरा हाथ हीना के कंधे पर रख दिया। दोनों एक-दूसरे को देख कर हस रही थी।

कुछ समय बाद मैंने शबनम को कहा मुझे किस करना है, वो बोली मना किसने किया है, लेकिन जो भी करना हम दोनों के साथ करना।

यह सुनकर मैं तुरंत शबनम के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मेरा लौड़ा तन कर खड़ा हो गया था जिसे हीना घूर कर देख रही थी। थिएटर में लाइट बंद होने कि वजह से मेरा हाथ शबनम की चूचियों पर चला गया और मैं उसकी चूचियों को दबाने लगा। दोस्तों मेरे एक हांथ में उसकी चूंचियां नहीं आ रही थी, क्यूंकि उसकी चूचियां ३४” की है और मैं उसके निप्पल को मसलने लगा इतने में ही वो गर्म हो गई थी और उसकी सांसें तेज़ हो गई थी।

मैंने अपने आप को कंट्रोल करते हुए शबनम को अपने से अलग किया और हीना की तरफ देखा वो हम दोनों का काम देखने के बाद पहले ही प्यासी नजरों से देख रही थी मैंने भी देर ना करते हुए हीना को अपनी ओर खींच लिया और उसके गाल पर एक किस कर दिया जिससे वो पूरी तरह से कांप गई, शायद पहली बार था इसलिए।

हीना पतली थी और उसकी चूचियां भी शबनम के मुकाबले छोटी थी जो एकबार में ही मेरे हांथ की गिरफ्त में थी, हीना की चूचियां शबनम की चूचियों से ज्यादा कड़क थी जिसे मैं मसल कर मुलायम कर रहा था।

हीना के मुंह से सिसकारियां निकलने लगी क्यूंकि मैं बहुत जोर से चूचियों को दबा रहा था। पीछे मुड़कर देखा तो शबनम मेरा लौड़े को देख रही थी, मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लन्ड पर रख दिया और वो एकदम से डर गई बोली यह क्या है इतना बड़ा, हीना इन सब बातों में शबनम से आगे थी और बोली कि जिससे हमारी सील टूटने वाली है ये वही हैं और हसने लगी।

शबनम- हीना तुझे बहुत पता है इसके बारे में।

हीना- पता नहीं था लेकिन जब से तुमने मुझे बताया है कि अर्नव ने तुम्हारी चूचियां छू लिया है तभी मुझे लगा कि अब हमारी सील टूटने वाली है और मैं रात भर नेट पर गन्दी फिल्म देखी।

शबनम- तू तो बहुत बड़ी चुदक्कड निकली।

हीना- हमारी उम्र की सारी लड़कियां आफिस में चुद चुकी है लेकिन हम दोनों अभी तक सिर्फ मूत कर ही अपनी गर्मी निकालते थे।

मैं यह सब कुछ सुन कर गर्म हो गया था मेरा लौड़ा बाहर आने को तैयार था, मैंने हीना को अपने लन्ड की तरफ इशारा किया और वो समझ गई कि मैं क्या कह रहा हूं। उसने मेरे पैंट की ज़िप खोली और अंडरवियर में हाथ डाल कर लन्ड को उपर से ही सहलाने लगी जिससे मेरे रोम रोम में वासना की आग लग गई। मैं शबनम की चूचियों को दबाने लगा और वो भी मेरा लौड़ा बाहर निकालने में हीना की मदद करने लगी।

एकदम से हीना मेरा लौड़ा बाहर निकाल कर चूसने लगी जिससे मैं जन्नत का मज़ा ले रहा था। शबनम यह देख कर और गर्म हुई जा रही थी। मेरा हाथ शबनम के टी शर्ट के अंदर चला गया और उसके कड़क चूचियों को दबाने लगा करीब १० मिनट बाद मैंने हीना के मुंह में ही अपना पानी छोड़ दिया जिसे वो शबनम को दिखा कर गटक गई। शबनम यह सब देख कर चुदासी हो गई थी पर मैं जल्दी नहीं करना चाहता था।

क्यूंकि मुझे पता था कि हम मूवी थियेटर में है। मूवी ख़त्म होने वाली थी हम-सब ने अपने अपने कपड़े ठीक किए और किस करना शुरू किया। हम तीनों एक दूसरे को देख रहे थे और अब तीनों को बस एक ही ख्वाहिश थी, चुदने और चोदने की।

हम लोग मूवी से बाहर निकल आए और कुछ नाश्ता करने के लिए पास के ही एक होटल में चले गए। नाश्ता करते हुए शबनम ने कहा कि अब आगे क्या करना है।

हीना- अब अगले रविवार का इंतजार करते हैं और कहीं होटल या लाॅज में चलते हैं।

शबनम- अगले रविवार को क्यूं आज ही क्यों नहीं अभी तो समय भी है।

मैं समझ गया था कि इसे आज अगर मैं नहीं चोदा तो ये किसी और से न चुद जाए लेकिन हीना बोली कि उस समय पर घर पहुंचना है और वो नहीं आ सकती। मैंने भी ज्यादा फोर्स नहीं किया और नाश्ता कर के हीना को एक आटो रिक्शा में बैठा दिया और वो चली गई।

मैं- शबनम तुम्हें सच में अभी करना है?

शबनम- अर्नव मैं बहुत गर्म हो गई हूं और अभी मुझे अपनी गर्मी निकालना है।

लण्ड चुत का मिलन > दीदी और मेरी पहली चुदाई

मैंने भी ज्यादा देर ना करते हुए बाईक पर बैठाकर लाॅज की तरफ चल दिया। बाईक पर शबनम एकदम मुझसे चिपक कर बैठी थी जिससे उसकी चूचियां दब रही थी और वो और भी ज्यादा गर्म हो चुकी थी। करीब आधा घंटा बाद हम दोनों एक लॉज के सामने थे। मैंने अपना और शबनम का पैनकार्ड लॉज वाले को दिया और उसने कार्ड डिटेल नोट करके अपने एक आदमी को रूम दिखाने बोला।

रूम दिखाने के बाद मैंने उसे कुछ खाने का आर्डर दिया और बोला कि एक घंटे बाद लेके आना। हम रूम में गये और मैं दरवाजा बंद करने लगा अचानक से शबनम मुझसे लिपट गई। मैं भी देर ना करते हुए उसे बेड पर लिटा दिया और उसके मम्मे ऊपर से ही चूसने लगा वो बोली कि अर्नव प्लीज़ मुझे और मत तड़पाओ और मेरे लौड़े को अपने एक हाथ से बाहर निकलने लगी।

मैंने उसे गालियां देते हुए कहा कि रंडी आज तक तूने सारे लड़कों को अपनी चूची और गांड़ दिखा कर उनको हिलाने पर मजबूर कर दिया था। आज उन सब‌का बदला लुंगा।